T20 लीग में खेलने उतरा टीम का मालिक, पहले ही मैच के बाद बोर्ड ने लगा दिया बैन

अफगानिस्तान में खेली जा रही टी20 लीग में टीम का मालिक अपनी टीम के लिए सेमीफाइनल मैच में खेलने उतरा लेकिन बोर्ड ने पहले ही मैच के बाद उस पर बैन लगा दिया।

dainik jagran

September 17, 2020

Films

1 min

zeenews

नई दिल्ली, जेएनएन। अफगानिस्तान में इस समय घरेलू टी20 लीग खेली जा रही है, जिसका नाम Shpageeza Cricket League 2020 है। इस लीग का आयोजन अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड यानी एसीबी द्वारा किया जा रहा है। इस टूर्नामेंट में एक अजीबोगरीब वाकया देखने को मिला है, जिसमें टीम का मालिक टीम के लिए सेमीफाइनल मैच खेलने उतर गया। यहां रिकॉर्ड तो बना, लेकिन अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उसे बैन कर दिया।

Shpageeza Cricket League की शुरुआत काबुल में 6 सितंबर से हुई है, जिसका फाइनल 16 सितंबर को खेला जाएगा। टूर्नामेंट में 6 टीमें हिस्सा ले रही हैं, जिसमें मिस ऐनक नाइट्स, बंद-ए-मीर ड्रैगन्स, एमो शार्क्स, स्पीन घार टाइगर्स, काबुल ईगल्स और बूस्ट डिफेंडर की टीम शामिल है। टूर्नामेंट फाइनल समेत कुल 15 मैच खेले जाने हैं और आज(16 सितंबर) इसका फाइनल होना है। इससे पहले यहां एक अजीब वाकया देखने को मिला।

दरअसल, इस टी20 लीग के पहले सेमीफाइनल मैच में 14 सितंबर को काबुल इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में मौजूदा चैंपियन मिस एनक नाइट्स का सामना काबुल ईगल्स से हुआ। इसी दौरान दर्शकों ने देखा कि टीम काबुल ईगल्स के मालिक Abdul Kabul Ayoubi अपनी टीम के लिए मुकाबला खेलने उतरे। 40 वर्षीय मीडियम पेसर अब्दुल ने न सिर्फ प्लेइंग इलेवन में जगह बनाई, बल्कि टीम के लिए एक ओवर फेंका, जिसमें 16 रन खर्चे।

अब्दुल काबुल अयूबी पहले से ही क्रिकेट के मैदान पर इस तरह एक अवैध डेब्यू करने के लिए जांच के दायरे में थे, लेकिन अब उनको एक मैच खेलने के बाद ही बैन कर दिया गया है, क्योंकि उन्होंने मैच में कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार किया था। रिपोर्ट्स में सामने आया है कि अयूबी एक कमेंटेटर के साथ एक हिंसक विवाद में शामिल था, जिसके परिणामस्वरूप अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (एसीबी) ने सिर्फ एक मैच खेलने के बाद उन पर बैन लगा दिया।

इस खबर की पुष्टि करते हुए, ACB ने ट्वीट किया, “काबुल ईगल्स फ्रेंचाइजी के मालिक अब्दुल लतीफ अयूबी को बाकी बचे टूर्नामेंट में शामिल होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है और ACB अनुशासन संहिता के अनुच्छेद 9 और 18 के उल्लंघन के लिए उन पर 30 हजार एएफएन (अफगानी करेंसी) का जुर्माना लगाया गया है, जो स्टाफ या खिलाड़ियों के साथ दुर्व्यवहार के लिए है। “

Related Topics

Related News

More Loader