सरकार बोली- नहीं पता लॉकडाउन में कितने मजदूरों की हुई मौत, राहुल का तंज- गिना नहीं तो क्या मौत नहीं हुई?

राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर प्रवासी मजदूरों की मौत को लेकर तंज कसते हुए कहा कि तुमने ना गिना तो क्या मौत ना हुई।

ayushi tyagi

September 16, 2020

National

Politics

1 min

zeenews

नई दिल्ली, एएनआइ। संसद का मानसून सत्र शुरु हो गया है और इसी के साथ पक्ष और विपक्ष में एक बार फिर आरोपों-प्रतिारोपों का दौर शुरु हो गया है। सोमवार को संसद में सरकार ने कहा कि इस बात का कोई रिकॉर्ड नहीं रखा गया है कि लॉकडाउन के दौरान कितने लोगों की मौत हुई। सरकार के इस तर्क पर अब राहुल गांधी ने हमला करते हुए कहा कि मोदी सरकार नहीं जानती की लॉकडाउन के दौरान कितने प्रवासी मजदूरों की मौत हुई और कितने लोगों की नौकरियां गई।

राहुल ने  शायराना अंदाज में हमला करते हुए कहा कि तुमने ना गिना तो क्या मौत ना हुई? हां मगर दुख है सरकार पे असर ना हुई, उनका मरना देखा ज़माने ने, एक मोदी सरकार है जिसे ख़बर ना हुई।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते सदन में इस बार लिखकर सवाल जवाब किए जा रहे हैं। विपक्ष के कई सांसदों ने लोकसभा में सरकार से पूछा कि लॉकडाउन के चलते देश में कितने प्रवासी मजदूरों की जान गई। इस पर सरकार ने जवाब देते हुए कहा कि उनके पास इस तरह का कोई आंकड़ा नहीं है जिससे पता चल सके की कितने प्रवासी मजदूरों की मौत हुई है।

पहले दिन 25 सांसद हुए कोरोना संक्रमित

वहीं, दूसरी तरफ संसद के मानसून सत्र के पहले दिन  25 सांसद कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। हालांकि, कोरोना वायरस को देखते हुए मानसून सत्र के आयोजन की काफी सारी तैयारियां की गई हैं। जितने सांसद संक्रमित पाए गए हैं, उनमें से 17 लोकसभा और बाकी आठ राज्यसभा के सदस्य हैं। बता दें कि कोरोना वायरस को देखते हुए सदन के सदस्यों के लिए सख्त नियम-कानून लागू किए गए हैं। साथ ही सभी से कहा गया है कि सभी लोगों को नियमों के पालन करना जरुरी है।

ये भी पढ़ें: जयललिता की करीबी सहयोगी शशिकला की जनवरी 2021 में जेल से हो सकती है रिहाई

Related News

More Loader