‘शिव-ज्योति’ एक्सप्रेस जन कल्याण, राज्य के विकास के लिए लगातार काम करेगी: MP सीएम

शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार को एक ही मंच पर थे जहां शिवराज ने कई योजनाओं के बारे में जानकारी दी। वहीं सिंधिया ने कहा कि वह राज्य के लोगों के कल्याण और विकास के लिए मुख्यमंत्री के साथ काम करना जारी रखेंगे।

nitin arora

September 26, 2020

National

Politics

1 min

zeenews

भोपाल, एएनआइ। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को कहा कि ‘शिव-ज्योति’ एक्सप्रेस लोगों के कल्याण और राज्य के विकास के लिए काम करती रहेगी। मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, राज्य सरकार ने सड़क विक्रेताओं के कल्याण के लिए एक योजना शुरू की है, जो शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे व्यवसायों में लगी हुई है, जिसके तहत 10,000 रुपये की राशि उन्हें बिना सुरक्षा के उपलब्ध कराई जा रही है और बिना ब्याज के।

राज्य सरकार ने एक नई योजना शुरू की है, जिसके माध्यम से किसानों को एक वर्ष में 4,000 रुपये की राशि प्रदान की जाएगी। वर्तमान में उन्हें प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत प्रति वर्ष 6,000 रुपये की राशि प्रदान की जा रही है। अब किसानों को एक साल में कुल 10,000 रुपये सम्मान निधि के रूप में मिलेंगे।

इस बीच, भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि वह राज्य के लोगों के कल्याण और विकास के लिए मुख्यमंत्री के साथ काम करना जारी रखेंगे। चौहान और सिंधिया गुरुवार को लाभार्थी-उन्मुख योजनाओं के तहत लाभ वितरित करने के लिए आयोजित अशोक नगर जिले के मुंगावली विधानसभा क्षेत्र के पिपराई गांव में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उस दौरान मुख्यमंत्री ने 2,465 लाभार्थियों को विभिन्न योजनाओं का लाभ वितरित किया।

मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि पिपराई उप स्वास्थ्य केंद्र को स्वास्थ्य केंद्र में अपग्रेड किया जाएगा। उन्होंने गवर्नमेंट कॉलेज पिपराई में विज्ञान कक्षाएं शुरू करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में अत्यधिक बारिश से फसलों को नुकसान और अन्य नुकसान का आकलन करने के लिए एक विशेष अभियान चलाया जाएगा और सर्वेक्षण के बाद जल्द ही मुआवजा राशि वितरित की जाएगी। उन्होंने जल्द ही मल्हारगढ़ परियोजना का सर्वेक्षण कार्य करने की भी घोषणा की।

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान और पूर्व सीएम कमलनाथ के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। राज्य में 28 विधानसभा क्षेत्रों में उप चुनाव होने वाले हैं। कांग्रेस इन उप-चुनाव के जरिए सत्ता में वापसी का सपना संजोए हुए है। उधर मतदाताओं को लुभाने के लिए सीएम चौहान भी बड़े-बड़े एलान कर रहे हैं।

बता दें कि कांग्रेस ने ठीक 2018 के मप्र विधानसभा चुनाव की तर्ज पर उपचुनाव के लिए भी चक्रव्यूह रुचना शुरू कर दी है। इस बार भी तोड़ निकालने के बजाय भाजपा सरकार इसमें फंसती नजर आ रही है। भाजपा सरकार की मुश्किल यह है कि वह मनोवैज्ञानिक दबाव में तात्कालिक निर्णय कर बैठती है। वहीं हवा का रुख मोड़ने के लिए उपलब्धियों को सामने रखने में चूक जाती है। किसान कर्जमाफी और ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग) को 27 फीसद आरक्षण सहित कोरोनाकाल की मुश्किलों को लेकर कांग्रेस लगातार उसे घेर रही है।

Related News

More Loader