कोरोना वायरस के असर से अछूती नही रहेगी रामलीला, ऑनलाइन कराने की तैयारियां शुरू

अब 8 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक चलने वाली रामलीला पर भी इसका प्रभाव पड़ सकता है। यही वजह है कि चंडीगढ़ में तो रामलीला को ऑनलाइन आयोजित करने की योजना बनाई जा रही है।

pooja singh

September 15, 2020

National

1 min

zeenews

नई दिल्ली, एएनआइ। देश इस वक्त कोरोना वायरस की चपेट में है। इस वायरस का प्रकोप प्रत्येक दिन बढ़ रहा है। पूरी दुनिया में भारत दूसरे नंबर पर कोरोना संक्रमित देश बन गया है। चीन के वुहान से पिछले साल फैले इस संक्रमण से देश में ज्यादार त्योहार पर भी प्रभाव पड़ा, जिसके चलते मंदिर, मस्जिद तक को भी बंद करना पड़ा। इस साल मनाए जाने वाले त्योहारों को दिशानिर्देशों का पालन करते हुए मनाया गया। अब 8 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक चलने वाली रामलीला पर भी इसका प्रभाव पड़ सकता है। यही वजह है कि चंडीगढ़ में तो रामलीला को ऑनलाइन शुरू करने की योजना बनाई जा रही है। चंडीगढ़ के संयुक्त राम लीला संघ के सलाहकार, अशोक चौधरी ने बताया कि इस साल कोविड-19 के चलते रामलीला का आयोजन नहीं किया जा सकता है। 

बता दें कि इस वायरस के संक्रमण से बचने के लिए केंद्र सरकार को लॉकडाउन भी लगाना पड़ा, जिसके चलते लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। सभी लोग अपने घरों में कैद गए। इस साल पड़ने वाले सभी त्योहार पर इसका असर देखने को मिला। नवरात्र, रक्षा बंधन, ईद जैसे त्योहार पर लोगों को काफी दिशा-निर्देशों का पालन करना पड़ा। अभी भले ही देश में अनलॉक की प्रक्रिया चल रहा है लेकिन प्रत्येक दिन संक्रमितों के आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं। इस वक्त देश में  78 हजार से ज्यादा मरीजों की मौत हो चुकी है वहीं 48 लाख 46 हजार से ज्यादा लोग इसकी चपेट में चुके हैं। प्रत्येक दिन यह आंकड़ा बढ़ रहा है। देश में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है। इस वायरस से बचने के लिए देश में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने पर जोर दिया जा रहा है। इंसान से इंसान से फैलने वाली इस बीमारी से दुनिया में अमेरिका सबसे ज्यादा सक्रमित देश है। वहीं दूसरे भारत है। इसके बाद तीसरे नंबर ब्राजील है। 

 

Related News

More Loader