इन कुछ नियमों के साथ करें तुलसी की पूजा

बहुत से लोग अपने घरो में तुसली का पौधा लगते है। शास्त्रों के अनुसार तुलसी को माता माना गया है और बहुत से लोग इनकी पूजा भी करते है। तुसली की पूजा करने से घर में सुख शांति बनी रहती है और घर में चारो और सकारात्मक ऊर्जा भी बनी रहती है। लेकिन क्या आप […]

dainiksaveratimes

July 21, 2021

Religious

1 min

zeenews

बहुत से लोग अपने घरो में तुसली का पौधा लगते है। शास्त्रों के अनुसार तुलसी को माता माना गया है और बहुत से लोग इनकी पूजा भी करते है। तुसली की पूजा करने से घर में सुख शांति बनी रहती है और घर में चारो और सकारात्मक ऊर्जा भी बनी रहती है। लेकिन क्या आप जानते है तुली की पूजा करने के कुछ नियम होते है। जिनका पालन पूजा करते समय अवश्य करना चाहिए। तो आइए जानते है कौन से है वो कुछ नियम :
1. प्रथम सेवा : तुलसी की जड़ों में रविवार और एकादशी को छोड़कर प्रतिदिन उचित मात्रा में जल अर्पण करना चाहिए। अर्थात ना कम और ना ज्यादा। यदि ज्यादा मात्रा में जल अर्पण किया तो पौधा समाप्त हो जाएगा और कम मात्रा में भी। कम फिर भी चल जाएगा परंतु ज्यादा नहीं। वैसे यदि एक दिन छोड़कर भी आप पानी अर्पण करेंगे तो चलेगा। बारिश में तो सप्ताह में दो बार ही डालें। रविवार और एकादशी के दिन तुलसी महारानी ठाकुरजी के लिए व्रत रखती है। वह केवल इन्हीं दो दिनों विश्राम करती और निंद्रा लेती हैं।
2.द्वितीय सेवा : समय समय पर तुलसी की मं‍जरियों को तोड़कर तुलसी से अलग करते रहें अन्यथा तुलसी बीमार होकर सूख जाएगी। कहते हैं कि जब तक यह मंजरियां तुलसी माता के शीश पर रहती है तब तक वह घोर कष्ट में रहती है। तुसली पत्ता, दल या मंजरी तोड़ने से पहले तुलसी जी की आज्ञा लेना जरूरी है। रविवार और एकादशी को यह कार्य नहीं करना चाहिए। नाखुनों से तुलसी को नहीं तोड़ना चाहिए।
3. तीसरी सेवा : वह महिलाएं तुलसी माता से दूर रहें जिन्हें पीरियड चल रहे हैं। यदि वे तुलसी के आसपास भी होंगी तो तुलसी मुरझाकर मर जाएगी। अत: इस बात का विशेष ध्यान रखें।
4. चौथी सेवा : तुलसी माता के आसपास वस्त्रों को ना सुखाएं। गिले वस्त्रों के आसपास से साबुन की गंध और सफेद किस्म के कीड़े या बैक्टिरिया रहते हैं जिनके कारण तुलसी को भी कीड़े लग सकते हैं। ऐसा अक्सर देखा गया है कि कपड़ों के कारण तुलसी में कीड़े लगे और वह सड़कर, काली पड़कर खतम हो गई।
5. पांचवां सेवा : तुलसी के पौधे को मौसम की मार से भी बचा कर रखना चाहिए। ज्यादा ठंड या गर्मी से तुलसी समाप्त हो जाती है। इसलिए ठंड में तुलसी माता के आसपास कपड़े या कांच का कवर लगाया जा सकता है। तेज बारिश से भी तुलसी को बचाकर रखें।

Related News

More Loader