बैंक ग्राहकों को अलर्ट! अब ATM से कैश निकालना हुआ महंगा, देना होगा इतना चार्ज

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने ATM लेन-देन से जुड़े नियमों में बड़े बदलाव की इजाजत विभिन्न बैंकों को दे दी है। RBI ने वीरवार को सभी बैंकों को इस बात की अनुमति दे दी है कि वो कैश और नॉन कैश ATM ट्रांजैक्शन पर शुल्क बढ़ा सकते हैं। इसका मतलब यह हुआ […]

dainiksaveratimes

June 11, 2021

Business

1 min

zeenews

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने ATM लेन-देन से जुड़े नियमों में बड़े बदलाव की इजाजत विभिन्न बैंकों को दे दी है। RBI ने वीरवार को सभी बैंकों को इस बात की अनुमति दे दी है कि वो कैश और नॉन कैश ATM ट्रांजैक्शन पर शुल्क बढ़ा सकते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि अगर आप पहले से एक महीने में तय मुफ्त ATM ट्रांजैक्शन लिमिट से ज्यादा बार ट्रांजैक्शन करते हैं तब आपको पहले जो शुल्क चुकाना पड़ता था उसमें बढ़ौतरी हो चुकी है। पहले यह शुल्क 20 रुपए निर्धारित था जिसे अब 21 रुपए कर दिया गया है।

RBI के नए आदेश 1 जनवरी, 2022 से लागू होंगे। हालांकि, उपभोक्ता अपने बैंक के ATM से एक महीने में 5 बार मुफ्त ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। इसके अलावा दूसरे बैंक के ATM से भी वो 3 बार मुफ्त ट्रांजैक्शन मैट्रो शहर और 5 बार गैर-मैट्रो शहर में सकते हैं। RBI ने अपने नए दिशा-निर्देशों में सभी बैंकों को ATM ट्रांजैक्शन के लिए इंटरचेंज शुल्क बढ़ाने की अनुमति भी दी है।

नए नियमों के मुताबिक सभी केंद्रों पर हर एक फाइनैंशियल ट्रांजैक्शन के लिए अब इंटरचेंज फी के तौर पर 15 की जगह 17 रु पए देने होंगे। इसके साथ ही नॉन फाइनैंशियल ट्रांजैक्शन के लिए 5 की जगह 6 रुपए देने होंगे। यह व्यवस्था 1 अगस्त 2021 से लागू होगी। देशभर में ATM की तैनाती में बढ़ती लागत और बैंकों द्वारा ATM केरखरखाव के  खर्च को देखते हुए बैंकों को अब ज्यादा चार्ज लेने की अनुमति दी गई है।

क्या होता है इंटरचेंज शुल्क?
अगर आप अपने बैंक के ATMके बजाए किसी अन्य बैंक के ATM से पैसे निकालते हैं तब ऐसे में आपका बैंक उस बैंक को निश्चित शुल्क का भुगतान करता है जिस बैंक के ATM से आपने पैसे निकाले हैं। इसे ही ATM इंटरचेंज फीस कहा जाता है।

Related News

More Loader