पेगासस जासूसी मामले की निष्पक्ष व स्वतंत्र जांच हो : सचिन पायलट

जयपुर : कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने पेगासस जासूसी मामले की तुरंत प्रभाव से निष्पक्ष जांच की मांग की है ताकि इसके लिए जवाबदेही तय हो। पायलट ने बुधवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि भारत सरकार इसकी जांच करे, उससे सच कभी सामने आयेगा नहीं. इसलिये कांग्रेस की भी मांग है कि इसकी जांच […]

dainiksaveratimes

July 21, 2021

National

1 min

zeenews

जयपुर : कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने पेगासस जासूसी मामले की तुरंत प्रभाव से निष्पक्ष जांच की मांग की है ताकि इसके लिए जवाबदेही तय हो।
पायलट ने बुधवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि भारत सरकार इसकी जांच करे, उससे सच कभी सामने आयेगा नहीं. इसलिये कांग्रेस की भी मांग है कि इसकी जांच उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के स्तर पर समयबद्ध तरीके से हो। उन्होंने कहा कि इस मामले की तह तक जाने की जरूरत है।उन्होंने कहा कि कि फ्रांस की सरकार ने तो इस मामले की गंभीर जांच के आदेश भी दिए हैं। पूर्व उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘कौन लोग, कौनसी सरकार, कौन व्यक्ति इसके लिये जिम्मेदार थे? जवाबदेही तय करने के लिए तुरंत प्रभाव से निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। चाहे वह संयुक्त संसदीय कमेटी हो, चाहे उच्चतम न्यायालय के संरक्षण में जांच की जाए ताकि सच्चाई सामने आये।’’ उन्होंने कहा कि लोगों के मन में सवाल उठ रहे है कि सरकार बोलती है हमने गैर कानूनी नहीं किया तो फिर किसके माध्यम से भुगतान हुआ, किसने करवाया, कब तक करवाया और बहुत सारे खुलासे होंगे जब हम इसकी तह तक पहुंचेंगे।
उन्होंने इसे लोगों की निजता एवं संवैधानिक परम्पराओं का हनन बताया और कहा कि लोकतंत्र को कमजोर करने की कोशिश की गई, इससे सारे देशवासी विचलित हैं, आहत हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी इसको लेकर देशभर में जनादोलन करेगी. बृहस्पतिवार को हर राज्य में राजभवन का घेराव हो रहा हैं तथा कांग्रेस की राजस्थान इकाई के अध्यक्ष के नेतृत्व में जयपुर में भी हम लोग राजभवन का घेराव करेंगे।उन्होंने कहा कि अगर कुछ छुपाने को नहीं है तो जांच से दूर भागने का भी कोई मतलब नहीं बनता है। वरिष्ठ कांग्रसे नेता ने केन्द्र सरकार की ओर से संसद में ऑक्सीजन की कमी के कारण देश में कोई मौत नहीं हुई के बयान पर कहा, ‘‘केन्द्र सरकार द्वारा यह कह देना कि राज्य सरकारों ने हमें जो आंकड़े भेजे उसमें किसी मौत का कारण ऑक्सीजन की कमी नहीं बताया. यह नाकाफी है. सिर्फ राज्य सरकार से आंकड़े जुटाने का काम केन्द्र सरकार है तो यह मैं समझता हूं कि लोगों के गले नहीं उतर रहा है।’’ उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को इस सारे संकट में हुई मौतों की आडिट करवानी चाहिए। 

Related News

More Loader