23 जुलाई का इतिहास : मनोरंजन व देशभक्ति दोनों के लिए खास है

(1) : भारत में 23 जुलाई की तारीख मनोरंजन और देशभक्ति, दोनों के लिए खास है। अलग-अलग सालों में इसी तारीख को दो बड़ी चीजें हुईं। सबसे पहले बात करते हैं देशभक्ति की। आज से 113 साल पहले, यानी 23 जुलाई 1906 को महान स्वतंत्रता सेनानी और देशभक्त चंद्रशेखर आजाद का जन्म हुआ था। देश […]

dainiksaveratimes

July 22, 2021

Ajab Ghazab

1 min

zeenews

(1) : भारत में 23 जुलाई की तारीख मनोरंजन और देशभक्ति, दोनों के लिए खास है। अलग-अलग सालों में इसी तारीख को दो बड़ी चीजें हुईं। सबसे पहले बात करते हैं देशभक्ति की। आज से 113 साल पहले, यानी 23 जुलाई 1906 को महान स्वतंत्रता सेनानी और देशभक्त चंद्रशेखर आजाद का जन्म हुआ था। देश की आजादी के लिए लड़ते हुए निडरता से अपनी मातृभूमि पर कुर्बान हो जाने वाले चंद्रशेखर आजाद एक महान क्रांतिकारी थे। देश के लिए उन्होंने सिर्फ 24 साल की उम्र में अपने प्राण की आहुति दे दी। उनकी शहादत के करीब 16 साल बाद भारत को आजाद देश बनाने का उनका ख्वाब पूरा हो सका था।
(2) : आज देश-दुनिया में मनोरंजन के लिए एफएम रेडियो से लेकर टीवी, इंटरनेट तक हर सुविधा मौजूद है। लेकिन आज से सिर्फ दो दशक पहले चले जाएं, तो मनोरंजन के नाम पर सिर्फ आकाशवाणी और दूरदर्शन हुआ करते थे। ये दिन इसलिए खास है क्योंकि आज से 92 साल पहले 23 जुलाई 1927 को आकाशवाणी की स्थापना हुई थी। तब इसका नाम भारतीय प्रसारण सेवा (इंडियन ब्रॉडकास्टिंग सर्विस) रखा गया था। देश में रेडियो प्रसारण की शुरुआत मुंबई और कोलकाता से की गई थी। इंडियन ब्रॉडकास्टिंग सर्विस का राष्ट्रीयकरण 1930 में हुआ। स्थापना के करीब 30 साल बाद 1957 में इसका नाम बदल कर आकाशवाणी रखा गया। 

देश दुनिया के इतिहास में 23 जुलाई की तारीख पर दर्ज अन्य घटनाओं का सिलसिलेवार ब्योरा इस प्रकार है…!

1903: मोटर कंपनी फोर्ड ने अपनी पहली कार बेची।
1906: स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद का जन्म हुआ।
1920: ब्रिटेन के कब्जे वाले पूर्वी अफ्रीका का नामकरण केन्या किया गया और इसे ब्रिटिश उपनिवेश बना दिया गया।
1927: मुंबई से रेडियो सेवा का नियमित प्रसारण शुरू हुआ।
1932: भारतीय अभिनेता और फ़िल्म निर्देशक महमूद का निधन हुआ।
1974: यूनान में सैन्य शासन का अंत और पूर्व प्रधानमंत्री कौन्सटैनटिन कारमनालिस को दोबारा सत्ता संभालने का न्यौता दिया गया।
1993: छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता सेनानियों में से एक लक्ष्मण प्रसाद दुबे का निधन
2001: मेघावती सुकर्णोपुत्री इंडोनेशिया की राष्ट्रपति बनीं।
2005: मिस्र के शर्म-अल-शेख के रिजॉर्ट में हुए बम धमाकों में 88 लोग मारे गए थे।
2012: इराक में सिलसिलेवार हमलों में 103 लोग मारे गए।
2012: स्वतंत्रता सेनानी और समाजसेविका का लक्ष्मी सहगल निधन
2016: भारत में जन्में प्रसिद्ध चित्रकर एस. एच. रज़ा का निधन

Related News

More Loader