अफगानिस्तान सेना ने छह महीने में 4,776 IED बम, बारूदी और सुरंगों को किया नष्ट: मंत्रालय

अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि पिछले 6 महीनों में सेना ने 4776 बम बारूदी सुरंगों को नष्ट किया है। दुश्मनों ने भारी आबादी वाले इलाकों में आम नागरिकों को अपना निशाना बनाने के लिए रास्तों में बिछाए हुए थे।

ayushi tyagi

September 24, 2020

Other

World

1 min

zeenews

काबुल, आइएएनएस।  अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि अफगान नेशनल आर्मी (एएनए) ने पिछले छह महीनों के दौरान आतंकवादियों द्वारा लगाए गए 4,776 बमों और बारूदी सुरंगों को खोज निकाला है। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि दुश्मनों ने आम तौर पर सुरक्षा बलों और निर्दोष नागरिकों को निशाना बनाने के लिए मुख्य सड़कों, राजमार्गों और भारी आबादी वाले इलाकों में IEDs और सड़क के किनारे बम छिपाए हैं।

सड़क किनारे 4,776 IEDs बलास्ट

4,776 IEDs, सड़क के किनारे बम और बारूदी सुरंगों को नष्ट कर दिया, लोगों की जान और संपत्तियों को बचाने के लिए अपनी जान खतरे में डाल दी। देश में तालिबानी आतंकवादी और अन्य विद्रोही समूह सड़क किनारे बम और बारूदी सुरंगों को निशाना बनाने के लिए घर-घर में सुधार करने वाले विस्फोटक उपकरण (IED) का उपयोग कर रहे हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने बताया कि सुरक्षा बलों, लेकिन घातक हथियारों ने नागरिकों को हताहत किया है। सप्ताहांत में दो प्रांतों में दो आईईडी विस्फोटों में एक किशोर लड़की की मौत हो गई और 25 नागरिक घायल हो गए।

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमारूल्ला सालेह के काफिले पर बम धमाका

जानकारी के लिए बता दें कि अफगानिस्तान में लगातार बम धमाकों जैसी घटनाएं होती रहती है। कई धमाकों में आम नागरिकों की भी मौत हो गई है। बता दें कि इससे पहले अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में उपराष्ट्रपति अमारूल्ला सालेह के काफिले पर बम से हमला हुआ था। इस हमले में 10 लोगों की मौत हो गई थी, वहीं, इस दौरान बॉडीगार्ड समेत 12 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। बता दें कि सलाहे पर जिस वक्त हमला हुआ उस वक्त उनका छोटा बेटा भी उनके साथ ही था। विस्फोट के कारण उनका हाथ और चेहरा जल गया था। 

ये भी पढ़ें: राहुल गांधी ने फिर साधा मोदी सरकार पर निशाना कहा- पड़ोस में बिना दोस्ती के रहना खतरनाक

Related News

More Loader