Google Map बताएगा आपके क्षेत्र में कहां है कोरोना के मरीज, एड हुआ नया फीचर

Google Map में एक नया फीचर एड हुआ है जो कि यूजर्स को बताएगा कि उनके क्षेत्र में कहां कोरोना के मरीज हैं। इस फीचर को COVID लेयर नाम दिया गया है। इसमें कोरोना मरीजों की संख्या और उनसे जुड़ा अपडेट प्राप्त होगा।

renu yadav

September 25, 2020

tech-news

Technology

1 min

zeenews

नई दिल्ली, टेक डेस्क। Google Map ने अपने यूजर्स की सुविधा के लिए बेहद ही खास फीचर पेश किया है। जिसकी मदद से यह पता चलेगा कि आपके क्षेत्र में कितने कोरोना मरीज है। ‘COVID लेयर’ नाम से पेश किया गया यह फीचर एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध होगा। इसमें न केवल आपको कोरोना संक्रमितों की जानकारी मिलेगी, बल्कि कोरोना वायरस से जुड़ा अपडेट भी प्राप्त होगा। 

‘COVID लेयर’ फीचर के बारे में Google Map ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट के जरिए जानकारी शेयर की है। ट्वीट में बताया गया है कि मैप्स में नया लेयर फीचर एड किया गया है। जो कि आपके क्षेत्र में आने वाले नए कोविड 19 केस और मरीजों की संख्या से जुड़ा अपडेट प्रदान करेगा। कंपनी ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि इस फीचर को एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराया जाएगा। यह अपडेट इसी हफ्ते से रोलआउट किया जा सकता है। 

कंपनी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार Google Map में लेयर बटन दिया जाएगा जो कि स्क्रीन पर दाईं ओर स्थित होगा। इस बटन पर क्लिक करने के बाद COVID -19 info का बटन मिलेगा। इस फीचर पर क्लिक करने के बाद ये मैप कोविड की स्थिति के अनुसार बदल जाएगा। यह क्षेत्र में प्रति 1,00,000 लोगों पर सात दिन के नए मामलों का औसत दिखाएगा और यह भी बताएगा कि एरिया में मामले बढ़ रहे हैं या कम हो रहे हैं।

.embed-container { position: relative; padding-bottom: 56.25%; height: 0; overflow: hidden; max-width: 100%; } .embed-container iframe, .embed-container object, .embed-container embed { position: absolute; top: 0; left: 0; width: 100%; height: 100%; }

इसके अलावा Google अपने यूजर्स की सुविधा के लिए कलर कोडिंग फीचर को भी एड करने वाला है जो कि उपयोगकर्ताओं को एक क्षेत्र में नए मामलों के घनत्व को भेदने में मदद करेगा। इसके अलावा ट्रेंडिंग मैप डाटा उन सभी 220 देशों और क्षेत्रों का कंट्री लेवल दिखायेगा जो Google Map सपोर्ट करते हैं। यह डाटा सुविधा राज्य, प्रांत, काउंटी और शहर स्तर पर उपलब्ध होगा।

Related Topics

Related News

More Loader