चीन पर साइबर हमलों के पीछे अमेरिका का सबसे बड़ा हाथ : चीनी विदेश मंत्रालय

21 जुलाई को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चाओ लीचिएन ने नियमित संवाददाता सम्मेलन की अध्यक्षता की। कुछ संवाददाताओं ने यह सवाल पूछा कि रिपोर्टों के अनुसार, 20 तारीख को अमेरिकी गृहभूमि सुरक्षा विभाग की साइबर सुरक्षा और बुनियादी सुविधा सुरक्षा एजेंसी ने एक रिपोर्ट जारी की जिस में कहा गया कि अमेरिकी सरकार ने […]

dainiksaveratimes

July 22, 2021

International

Politics

1 min

zeenews

21 जुलाई को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चाओ लीचिएन ने नियमित संवाददाता सम्मेलन की अध्यक्षता की। कुछ संवाददाताओं ने यह सवाल पूछा कि रिपोर्टों के अनुसार, 20 तारीख को अमेरिकी गृहभूमि सुरक्षा विभाग की साइबर सुरक्षा और बुनियादी सुविधा सुरक्षा एजेंसी ने एक रिपोर्ट जारी की जिस में कहा गया कि अमेरिकी सरकार ने 23 अमेरिकी प्राकृतिक गैस पाइपलाइन ऑपरेटरों को ट्रैक किया, जिन्होंने 2011 से 2013 तक साइबर हमलों का सामना किया और माना चीनी सरकार द्वारा समर्थित अभिनेताओं ने साइबर घुसपैठको अंजाम दिया। चाओ लीचिएन ने कहा कि अमेरिका की तथा कथित रिपोर्ट तथ्यों के उलट है।चीन हर तरह के साइबर हमलों का कड़ा विरोधकरता है और उनका मुकाबला करता है। यह रूख लगातार और स्पष्ट है। चाओ लीचिएन ने जोर देते हुए कहा कि चीन पर साइबर हमलों के पीछे अमेरिका का सबसे बड़ा हाथ है। आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2020 में चीन की संबंधित चीनी एजेंसियों ने 4 करोड़ 20 लाख से अधिक दुर्भावना पूर्ण प्रोग्राम नमूने लिए हैं। विदेशी स्रोतों से दुर्भावनापूर्ण प्रोग्राम के नमूनों में, 53% अमेरिका से हैं। चाओ लीचिएन ने कहा कि साइबर सुरक्षा के मुद्दे पर अमेरिका के पास लंबे समय तक कोई श्रेय नहीं है। उसने जो कहा वह विश्वास करने के लिए पर्याप्त नहीं है।
(साभार—चाइना मीडियाग्रुप ,पेइचिंग)

Related News

More Loader